बीपीआरओ ने प्रखंड प्रमुख के विरुद्ध कराई प्राथमिकी, एसडीपीओ ने की जांच

0

बीपीआरओ ने प्रखंड प्रमुख के विरुद्ध कराई प्राथमिकी, एसडीपीओ ने की जांच

उचकागांव/एस एन ब्यूरो

उचकागांव प्रखंड के बीपीआरओ आदित्य अंशु ने प्रखंड प्रमुख विश्वजीत यादव सहित तीन नामजद और तीन-चार अन्य के विरुद्ध मारपीट, गाली गलौज और सरकारी काम में अनावश्यक दबाव बनाने का आरोप लगाते हुए थाने में प्राथमिकी कराई है। जिससे पुरा दिन इस मामले को लेकर अलग अलग क्याश लगाएं जाते रहे। प्राथमिक दर्ज होने के 24 घंटे के अंदर प्रखंड मुख्यालय पहुंचकर एसडीपीओ अनुराग कुमार ने मामले में जांच पड़ताल की। घटना के सम्बन्ध में बताया जा रहा है कि बीते 23 अगस्त के दिन उचकागांव प्रखंड के बीपीआरओ आदित्य अंशु अपने कार्यालय में बैठे हुए थे। इसी दौरान प्रखंड प्रमुख विश्वजीत यादव उनके कक्ष में पहुंचे और उन्हें उप स्वास्थ्य केंद्र के क्रियान्वयन के लिए दबाव बनाने लगे। जिसका उन्होंने विरोध किया तो नाराज होने के बाद प्रखंड प्रमुख अपने चेंबर में चले गए। इसके बाद प्रखंड प्रमुख ने बीपीआरओ को फोन कर अपने कार्यालय में बुलाया और उसके बाद चेंबर में बैठे अपने गनरो एवं अन्य लोगों की उपस्थिति में उप स्वास्थ्य केंद्र के निर्माण कार्य को शुरू कराने के लिए दबाव बनाने का प्रयास किया। बीपीआरओ का आरोप है कि प्रखंड प्रमुख ने अपने चेंबर में बुलाने के बाद उनको तमाचा मारने के बाद उनके साथ गाली गलौज और धक्का मुक्की भी की। वही गोपालगंज जाने के क्रम में काम तमाम करने की भी धमकी दी गई। बीपीआरओ आदित्य अंशु का आरोप है कि प्रखंड प्रमुख और उनके पिता दबंग प्रवृत्ति के व्यक्ति हैं। हमेशा गनर लेकर अपने साथ चलते हैं। प्रखंड प्रमुख द्वारा योजनाओं के क्रियान्वयन के लिए जबरन अनावश्यक दबाव भी बनाया जाता है। घटना के बाद कभी भी मेरे साथ किसी भी अप्रिय घटना को अंजाम दे सकते हैं। मामले में बीपीआरओ आदित्य अंशु द्वारा एसपी स्वर्ण प्रभात को दिए गए आवेदन पर एसपी के आदेश के आलोक में प्रखंड प्रमुख विश्वजीत यादव, थाना क्षेत्र के श्यामपुर गांव के विकास कुमार, प्रखंड प्रमुख के चालक रामबाबू यादव और तीन-चार अन्य के विरुद्ध प्राथमिकी कराई गई है। प्राथमिक की दर्ज होने के 24 घंटे के अंदर प्रखंड मुख्यालय पहुंचकर एसडीपीओ अनुराग कुमार ने मामले में जांच पड़ताल की। इस दौरान उन्होंने बीपीआरओ आदित्य अंशु, बीडीओ कुमार प्रशांत और सीओ रवीश कुमार से अलग-अलग घटना के बारे में पूरी जानकारी ली। मामले में प्रखंड प्रमुख विश्वजीत यादव ने कहा कि प्रखंड के विकास कार्य को गति देने के लिए प्रयास किया जा रहा है। जिसमें बीपीआरओ आदित्य अंशु रुकावट बन रहे हैं। वित्तीय वर्ष 2020-21 व 2021-22 की पूर्ण योजनाओं का भुगतान भी अभी तक लंबित चल रहा है। जिसमें भुगतान की मांग करने पर बीपीआरओ द्वारा कमीशन की मांग की जाती है।

क्या है पुरा मामला

बताया जा रहा है कि वित्तीय वर्ष 2021-22 में पंचायत समिति के माध्यम से उचकागांव सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में निर्माण कार्य के लिए प्रस्ताव पारित किया गया था। जिसमें विभाग द्वारा योजना का कोड भी निर्धारित कर दिया गया। परंतु गलती से योजना का नाम उचकागांव सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र के स्थान पर उचकागांव उप स्वास्थ्य केंद्र हो गया। जिसके कारण उचकागांव सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र के विकास कार्य में पिछले एक वर्ष से बाधा बनी हुई है। योजना का नाम संशोधन को लेकर प्रखंड प्रमुख और बीपीआरओ के बीच विवाद चल रहा था। इसके पूर्व अंचलाधिकारी से भी प्रखंड प्रमुख से कुछ मामले को लेकर विवाद चला।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *